Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

जहाँ डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा,

वो भारत देश है मेरा, वो भारत देश है मेरा ।

जहाँ डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा,
वो भारत देश है मेरा, वो भारत देश है मेरा ।
जहाँ सत्य अहिंसा और धरम का पग पग लगता डेरा,
वो भारत देश है मेरा, वो भारत देश है मेरा ॥

जय भारती जय भारती

यह धरती वो जहाँ ऋषि मुनि जपते हरी नाम की माला ।
हरी ओम, हरो ओम, हरो ओम, हरी ओम
जहाँ हर बालक इक मोहन है, और राधा इक इक बाला ।
जहा सूरज सब से पहले आकर डाले अपना फेरा,
वो भारत देश है मेरा, वो भारत देश है मेरा ॥

जहाँ गंगा यमुना कृष्णा और कावेरी बहती जाये ।
जहां उत्तर दक्षिण पूर्व पछिम को अमृत पिलवाये ।
कहीं यह जल फल और फूल उगाये केसर कहीं बिखेरा,
वो भारत देश है मेरा, वो भारत देश है मेरा ॥

अलबेलों की इस धरती के त्यौहार भी हैं अलबेले ।
कहीं दिवाली की जगमग है होली के कहीं मेले ।
जहाँ राग रंग और हसी ख़ुशी का चारो और है घेरा,
वो भारत देश है मेरा, वो भारत देश है मेरा ॥

जहां आसमान से बाते करते मंदिर और शिवालये ।
किसी नगर में किसी द्वार पर कोई ना ताला डाले ।
और प्रेम की बंसी जहाँ बजाता आए श्याम सवेरा,



jahan daal daal par sone ki chidiya karti hai basera



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥