Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

जब छोड़ चलू इस दुनिया को, होंठो पे नाम तुम्हारा हो,
चाहे स्वर्ग मिले या नरक मिले, हृद्या मे वास तुम्

जब छोड़ चलू इस दुनिया को, होंठो पे नाम तुम्हारा हो,
चाहे स्वर्ग मिले या नरक मिले, हृद्या मे वास तुम्हारा हो,
जब छोड़ चालू इस दुनिया को,

तंन श्याम नाम की चादर हो, तंन श्याम नाम की चादर हो,
जब गहेरी नींद मेी सोया राहु,        जब गहेरी नींद मेी सोया राहु,
कानो मे मेरे गूंजीत हो, कानो मे मेरे गूंजीत हो, कान्हा बस नाम तुम्हारा हो,
कानो मे मेरे गूंजीत हो, कान्हा बस नाम तुम्हारा हो,
जब छोड़ चालू इस दुनिया को,

रास्ते मे तुम्हारा मंदिर हो, रास्ते मेी तुम्हारा मंदिर हो,
जब मंज़िल को प्रस्थान करू, जब मंज़िल को प्रस्थान करू,
चोखत पे तेरी मनमोहन, चोखत पे तेरी मनमोहन, अंतिम परिणाम हमारा हो,
चोखत पे तेरी मनमोहन, अंतिम परिणाम हमारा हो,
जब छोड़ चालू इस दुनिया को,

उस वक़्त कन्हैया आजना, उस वक़्त कन्हैया आजना,
जब चिट आपे जाके शयन करू, जब चिट आपे जाके शयन करू,
मेरे मुख मेी तुलसी दल देना, मेरे मुख मेी तुलसी दल देना, इतना बस कम तुम्हारा हो,
मेरे मुख मेी तुलसी दल देना, इतना बस कम तुम्हारा हो,
जब छोड़ चालू इस दुनिया को,

बार सेवाकी मैने तेरी, बार सेवाकी मैने तेरी,
तो उसका ये उफार मिले, तो उसका ये उफार मिले,
इस हर्ष भगत का सावारिय, इस हर्ष भगत का सावारिय, नही आना कभी भी दुबारा हो,
इस हर्ष भगत का सावारिय, नही आना कभी भी दुबारा हो,
जब छोड़ चालू इस दुनिया को,

जब छोड़ चालू इस दुनिया को, होंठो पे नाम तुम्हारा हो,
जब छोड़ चालू इस दुनिया को, होंठो पे नाम तुम्हारा हो,
चाहे स्वर्ग मिले या नरक मिले, हृद्या मेी वास तुम्हारा हो,
चाहे स्वर्ग मिले या नरक मिले, हृद्या मेी वास तुम्हारा हो,



jab chod chalu is duniya ko hontho pe naam tumhara ho



Bhajan Lyrics View All

तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना