Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

हम गरीबों के श्याम तुम सहारे रहो ।
हम तुम्हारे रहें तुम हमारे रहो ॥

हम गरीबों के श्याम तुम सहारे रहो ।
हम तुम्हारे रहें तुम हमारे रहो ॥

तुमसे मिल के लगा कोई अपना मिला,
श्याम जीने का हमको बहाना मिला ।
प्यारे लगते हो श्याम प्यारे लगते रहो,
हम गरीबों के श्याम तुम सहारे रहो ॥

जान जाने से पहले दूर जाना नहीं,
खुद को भूलो हमें भुल जाना नहीं ।
हम गरीबों के श्याम तुम गुजारे रहो,
हम गरीबों के श्याम तुम सहारे रहो ॥

नाम ले ले के ये साँसे चलती रहे,
ज्योत दिल में तुम्हारी बस जलती रहे ।
मेरी अखियों के श्याम तुम तारे रहो,
हम गरीबों के श्याम तुम सहारे रहो ॥

हम गरीबों से इतना तो वादा करो,
तुम मिलो ना मिलो पर इरादा करो ।
दिल पे बनवारी तुम डेरा डाले रहो,



hum garibon ke shyam tum sahare raho hum tumhare rahe tum hamare raho



Bhajan Lyrics View All

बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला