Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

होली आई उड़े रे गुलाल डालो जी रंग केसरिया
केसरिया जी रंग केसरिया-

होली आई उड़े रे गुलाल डालो जी रंग केसरिया
केसरिया जी रंग केसरिया-

फागुन मास सुरंगो आयो
संग में सारी खुशियां ल्याओ
उड़े बदन में झान डालो जी रंग केसरिया
होली आई उड़े रे गुलाल...

ब्रज की नवेली बड़ी अलबेली
चंपा चमेली छैल छबीली
नाचे दे दे ताल डालो जी रंग केसरिया
होली आई उड़े रे गुलाल...

नटवर नागर कृष्ण मुरारी
भर पिचकारी सखियों को मारी
कर दिया हाल बेहाल डालो जी रंग केसरिया
होली आई उड़े रे गुलाल...

डफ झांझरिया ढोल बजावां
फागुन को त्यौहार मनावां
देखो देखो होली रो कमाल डालो जी रंग केसरिया

हे फागुन की अलमस्त बहारें वृन्दावन में छायी
झूम उठा ब्रज अलमस्ती में ऐसी होली छायी
ऐसी होली छायी
ऐसी होली छायी

राधा के संग चन्द्रसखी
और सखियां नयी नवेली
बरसाने से आई खेलने
वृन्दावन में होरी हो हो हो
वृन्दावन में होरी

हेजी रे
हेजी रे हिल मिल होरी खेल रहे हैं
ब्रज के ग्वाल गुजरिया
श्याम के संग में
छेल छबीले
नयी उमर के रसिया
नयी उमर के रसिया

नंदगाँव के द्वार मची हैं
होली खेले नर नारी
वृन्दावन की इस होरी पे जाऊं मैं बलिहारी
जाऊं मैं बलिहारी



holi aayi ude re gulal dalo ji rang kesariya



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो