Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

हरी नाम का प्याला
और हरे कृष्ण की हाला

हरी नाम का प्याला
और हरे कृष्ण की हाला

हरी नाम का प्याला प्याला
हरे कृष्ण की हाला।
ऐसी हाला पी पीकर के
चला चले मतवाला॥

राधा जैसी बाला,
और वृन्दावन का ग्वाला

राधा जैसी बाला,
और वृन्दावन का ग्वाला।
ऐसा ग्वाला मुरली मनोहर
जपो कृष्ण की माला॥

हरी नाम का प्याला
और हरे कृष्ण की हाला।
ऐसी हाला पी पीकर के
चला चले मतवाला॥

हरे कृष्ण का जप हो
और हरे कृष्ण की माला

हरे कृष्ण का जप हो
और हरे कृष्ण की माला।
दिव्य ज्योत से ह्रदय शुद्ध हो
निकले मन की ज्वाला॥

हरी नाम का प्याला
और हरे कृष्ण की हाला।
ऐसी हाला पी पीकर के
चला चले मतवाला॥

कृष्ण की धुन में तन हो
और हरे कृष्ण में मन हो।

कृष्ण की धुन में तन हो
और हरे कृष्ण में मन हो।
ऐसे तन मन के मंदिर में
कृष्ण हाला डाला॥

हरी नाम का प्याला
और हरे कृष्ण की हाला।
ऐसी हाला पी पीकर के
चला चले मतवाला॥

हरे कृष्ण में बल है
कृष्णा जल और थल है।
ऐसे नव जल थल में
पी लो नारायण की हाला॥

हरी नाम का प्याला
और हरे कृष्ण की हाला।
ऐसी हाला पी पीकर के
चला चले मतवाला॥

ऐसी हाला पी पीकर के
चला चले मतवाला।
ऐसी हाला पी पीकर के



hari naam ka pyala or hare krishan ki halaa



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा