Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

गोविन्द गोपाल गाइये जी
भजो नन्द के लाल नित्य गाइये जी

गोविन्द गोपाल गाइये जी
भजो नन्द के लाल नित्य गाइये जी

मुरलीधरा मोहन मदन मुरारी
बंशीधर ब्रजराज बांके बिहारी
हिरदय में हरी को बसाइये जी
भजो नन्द के लाल नित्य गाइये जी

राधा रमन हरी गोविन्द जय जय
गोविन्द जय जय गोपाल जय जय

गोकुलेश गोपीनाथ गोवर्धन धारी
कृष्णा कलाकुंज काली मनहारी
चरणो में चित्त लगाइये जी
भजो नन्द के लाल नित्य गाइये जी
गोविन्द गोपाल गाइये जी

ओम नमो भगवते वासुदेवाय
वासुदेवाय मेरो कृष्णा चन्द्राय

दामोदर दीन दयाल दुखहारी
भयभव मोचन भगतन हितकारी
हरे कृष्ण कृष्ण दोहराइए जी  
भजो नन्द के लाल नित्य गाइये जी
गोविन्द गोपाल गाइये जी

राधा रमन हरी गोविन्द जय जय
गोविन्द जय जय गोपाल जय जय

नन्द किशोर नवनीत नटनागर
श्याम स्वरुप हे सत्य सुख सागर
कबहुँ न नाम बिसराइये जी
भजो नन्द के लाल नित्य गाइये जी
गोविन्द गोपाल गाइये जी

संपर्क - +



govind gopal gaaiye ji bhajo nand ke laal nitya gaiye ji



Bhajan Lyrics View All

सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा