Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

गोविन्द चले आओ, गोपाल चले आओ
मेरे मुरलीधर माधव नानाद्लाल चले आओ

गोविन्द चले आओ, गोपाल चले आओ
मेरे मुरलीधर माधव नानाद्लाल चले आओ

आँखों में बसे हो तुम, धड़कन में धड़कते हो
कुछ ऐसा करो मोहन स्वासों में समां जाओ
गोविन्द चले आओ...

इक शरत ज़माने से प्रभु हमने लगा ली है
जा हमको बुला लो तुम जा खुद हु चले आओ
गोविन्द चले आओ...

तेरे दर्शन को मोहन मेरे नयन तरसते हैं
है अरज मेरी मोहन अब और ना तरसाओ
गोविन्द चले आओ...

ਗੋਬਿੰਦ ਚਲੇ ਆਓ, ਗੋਪਾਲ ਚਲੇ ਆਓ
ਮੇਰੇ ਮੁਰਲੀਧਰ ਮਾਧਵ, ਨੰਦਲਾਲ ਚਲੇ ਆਓ
ਗੋਬਿੰਦ ਚਲੇ ਆਓ,ਗੋਪਾਲ ਚਲੇ ਆਓ
ਗੋਬਿੰਦ ਚਲੇ ਆਓ...

ਆਂਖੋਂ ਮੇ ਬਸੇ ਹੋ ਤੁਮ, ਧੜਕਣ ਮੇ ਧੜਕਤੇ ਹੋ
ਕੁਛ ਐਸਾ ਕਰੋ ਮੋਹਨ, ਸਵਾਂਸੌਂ ਮੇ ਸਮਾ ਜਾਓ
ਗੋਬਿੰਦ ਚਲੇ ਆਓ...

ਇਕ ਸ਼ਰਤ ਜ਼ਮਾਨੇ ਸੇ, ਪ੍ਰਭੂ ਹਮਨੇ ਲਗਾ ਲੀ ਹੈ
ਜਾਂ ਹਮਕੋ ਬੁਲਾ ਲੋ ਤੁਮ, ਜਾਂ ਖੁਦ ਹੀ ਚਲੇ ਆਓ
ਗੋਬਿੰਦ ਚਲੇ ਆਓ...

ਤੇਰੇ ਦਰਸ਼ਨ ਕੋ ਮੋਹਨ, ਮੇਰੇ ਨੈਣ ਤਰਸਤੇ ਹੈ
ਹੈ ਅਰਜ਼ ਮੇਰੀ ਮੋਹਨ, ਅਬ ਔਰ ਨਾ ਤਰਸਾਓ
ਗੋਬਿੰਦ ਚਲੇ ਆਓ...



gobind chale aao gopal chale aao



Bhajan Lyrics View All

तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे