Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

ॐ श्री सत्नाम साक्षी
भजन तर्ज़ -  रेशमी सलवार कुर्ता जाली का

ॐ श्री सत्नाम साक्षी
भजन तर्ज़ -  रेशमी सलवार कुर्ता जाली का

 धारो मन मूरत कृष्ण काले की,
 गोवर्धनधारी मुरली वाले की...

. जांके कुण्डलों की छबि भारी
   मोर मुकुट की झलक न्यारी ।
   उर माल बैजन्ती धारी,
   मोहिनी मूरत लगे प्यारी ।
   जगत उजियाले की,
   गोवर्धनधारी मुरली वाले की...

. जांके नूपर छम छम बाजे
   देख रूप चन्दमा लाजे ।
   मुरली की सुन आवाज़े
   तज काम गोपियों भाजे ।
   ब्रज रखवाले की,
   गोवर्धनधारी मुरली वाले की...

. कटि काछनी सुन्दर सोहे ,
   पीताम्बर मन को मोहे ।
   यह ध्यान पाप सब खाये,
   कहे टेऊँ मैल को धोये ।
   नाथ नन्दलाले की,



dharo mann murat krishan kale ki govardhan dhari murli wale ki



Bhajan Lyrics View All

कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।