Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

देना हो तो झुंझनवाली दे इतना वरदान
अंत समय मेरी जुबां से निकले तेरा नाम

देना हो तो झुंझनवाली दे इतना वरदान
अंत समय मेरी जुबां से निकले तेरा नाम
नमो नारायणी... नमो नारायणी...
नमो नारायणी... नमो नारायणी...

खो जाऊं जब पांच तत्त्व में,
हो वो झुंझनू धाम...
अंत समय मेरी जुबां से निकले तेरा नाम
नमो नारायणी... नमो नारायणी...
नमो नारायणी... नमो नारायणी...

बिन मांगे सब कुछ देकर दया दिखाई है दादी
पल-पल साथ मेरा देकर लाज बचाई है दादी
एक नहीं लाखो मुझपर है तेरा एहसान
अंत समय मेरी जुबां से निकले तेरा नाम
नमो नारायणी....नमो नारायणी....
नमो नारायणी....नमो नारायणी....

नाम तुम्हारा ले लेकर हुआ मुझे एहसास यही
खुश रहता है भगत तेरा
रहता कभी उदास नही
नाम तुम्हारा कर देता हर मुश्किल आसान
अंत समय मेरी जुबां से निकले तेरा नाम
नमो नारायणी....नमो नारायणी....
नमो नारायणी....नमो नारायणी....

जिस दिन निकले प्राण मेरा
सामने हो तस्वीर तेरी
मुख पर तेरा नाम हो
लिख ऐसी तक़दीर मेरी
दादी अपने सेवक का कर इतना सा काम
अंत समय मेरी जुबां से निकले तेरा नाम
नमो नारायणी....नमो नारायणी....
नमो नारायणी....नमो नारायणी....



dena ho to jhunjhan wali de itna vardaan namo narayni rani sati dadi bhajan by Saurabh Madhukar



Bhajan Lyrics View All

हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला