Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

देखते रह जाओगे देखते रह जाओगे
आओगे कुटिया में मेरी कुटिया में ही रह जाओगे

देखते रह जाओगे देखते रह जाओगे
आओगे कुटिया में मेरी कुटिया में ही रह जाओगे

श्याम तेरा मंदिर संगमरमर का
की घर मेरा है सस्ते पत्थर का
हर पत्थर में प्यार समाया कहाँ पे दिल को लगाओगे
देखते रह जाओगे देखते रह जाओगे

श्याम तेरा लकड़ी का दरवाजा
हमारे घर है दिल का दरवाज़ा
उससे निकल जाओगे लेकिन इससे निकल नहीं पाओगे
देखते रह जाओगे देखते रह जाओगे

श्याम तेरा चांदी का सिंघासन
यहाँ पे मेरी पलकों का है आसन
इक चाँदी का इक नयनों का कहाँ पे डेरा जमाओगे
देखते रह जाओगे देखते रह जाओगे

श्याम तेरा गाँव का पानी खारा
यहाँ पे बनवारी असुंवन  धारा
एक कुवें का एक अखियन का किससे चरण धुलवाओगे



dekhte reh jaoge dekhte reh jaaoge aaoge kutiya me meri kutiya me hi reh jaoge



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया,
सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया।
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना