Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

चिंता हो ना भय हो, राधा रानी की जय हो,
ऊँची अटारी वारी प्यारी की जय हो ।

चिंता हो ना भय हो, राधा रानी की जय हो,
ऊँची अटारी वारी प्यारी की जय हो ।

रे मन मूरख चिंता न कर जप ले राधा राधा,
कोटि जनम की विपदा काटे राधा नाम यह आधा ।
हरी प्रकट हो ऐसी नाम खुमारी की जय हो,
चिंता हो ना भय हो, राधा रानी की जय हो ॥

जप तप सयम ना जानू, ना जानू कोई पूजा,
एक भरोसा श्री कुंवारी को, नाही कोई दूजा ।
शुक नारद भी गाये महिमा नयारी की जय हो,
चिंता हो ना भय हो, राधा रानी की जय हो ॥

जिनकी कृपा से वृन्दावन में मोहन मुरली बजाई,
टेड़े कदम के आगे खाडे, मुरली मधुर बजाई ।
ऐसो रस बरसाने वारी की जय हो,
चिंता हो ना भय हो, राधा रानी की जय हो ॥

'हरी दासी’ सब छोड़ झमेले, बरसाने चली आना,
संतो के चरणो में जा के सांचो भाव जगाना ।
कोटि चद्र रूप उज्जयारी की जय हो,
चिंता हो ना भय हो, राधा रानी की जय हो ॥


राधा रानी की जय, राधा रानी की जय
बोलो रस बरसाने वारी की जय
बोलो ऊँची अटारी वारी प्यारी की जय



chinta ho na bhay ho radha rani ki jay ho



Bhajan Lyrics View All

मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा