Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां
मेरे सतगुरु दीन दयाला

चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां
मेरे सतगुरु दीन दयाला

कुर्बान जाऊं उस वेला सुहावा
जित तुम्हरे द्वारे आया
चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां
मेरे सतगुरु दीन दयाला

पार ब्रह्मा परमेश्वर सतगुरु
आपे कर नेहारा
चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां
मेरे सतगुरु दीन दयाला

चरण धूल तेरे सेवक मांगे
तेरे दर्शन को बलेहारा
चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां  
मेरे सतगुरु दीन दयाला

मेरे राम राये
ज्यों राखे,त्यों रहिये
तुद पावे ता नाम जपांवे
सुख तेरा देता लहिए
चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां  
मेरे सतगुरु दीन दयाला

तहाँ बैकुंठ जहाँ कीर्तन तेरा
तू आपे सारधा लावे
चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां  
मेरे सतगुरु दीन दयाला

मुकत भुगत जुगत तेरी सेवा
जिसे तू आप करावे
चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां  
मेरे सतगुरु दीन दयाला

सिमर सिमर सिमर नाम
जिव्हा मेरो तनमन होए निहाला
चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां  
मेरे सतगुरु दीन दयाला

नानक कहे प्रभ भज किरपाल
सतगुरु पूरा पाया
चरण कमल तेरे धोए धोए पीवां  
मेरे सतगुरु दीन दयाला



charan kamal tere dhoye dhoye peevan mere satguru deen dayala radhaswami satsang



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया,
सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया।
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना