Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

बंशी ऐसी  बजायी मेरे श्याम ने ,
प्यारी धुन को सुना तो मजा आ गया  ....

बंशी ऐसी  बजायी मेरे श्याम ने ,
प्यारी धुन को सुना तो मजा आ गया  ....

अपनी सुध बुध भुलाके सभी गोपियां
सांवरे रंग समाई मजा आ गया
जादुगारी है बंशी की धुन श्याम की
सुन घटा गिर के छाई मजा आ गया !!

तीनों लोकों में धुन बंशी की छा गयी
देव नर नारी सब  ऋषियों को भा गयी॥
यमुना का जल रुका , चाँद ठहर गया ॥
देख एसा नजारा , मजा आ गया !!  बंशी ऐसी  बजायी मेरे श्याम ने

हरे बांशो की बांसुरियां मन भा गयी
ढलती रात बजी दिल को तरसा गयी ॥
एसी लचक निराली मेरे श्याम की ॥
राधा हो गयी दीवानी , मजा आ गया !!   बंशी ऐसी  बजायी मेरे श्याम ने

वारी वारी मैं जाऊं तेरी बंशी पे
‘‘ लाल निरंजन ’’ बलिहारी तेरी बंशी पे॥
रोज सिमरण करूं तेरा ध्यान धरुं॥
दर्शन श्यामा का पाऊं , मजा आ गया ॥ बंशी ऐसी  बजायी मेरे श्याम ने



banshi eshi bajayi mere shyam ne pyari dhun ko suna to maja aa geya



Bhajan Lyrics View All

Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की