Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

शिव है शक्ति, शिव है भक्ति, शिव है मुक्ति धाम
शिव है ब्रह्मा, शिव है विष्णु, शिव है मेरा राम

शिव है शक्ति, शिव है भक्ति, शिव है मुक्ति धाम
शिव है ब्रह्मा, शिव है विष्णु, शिव है मेरा राम

ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी श्याम
जिस दिन जुबा पे मेरी आए ना शिव का नाम

ॐ नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय

मन मंदिर में वास है तेरा, तेरी छवि  बसाई
प्यासी आत्मा बनके जोगन, तेरी शरण में आई
तेरी ही शरण में पाया, मैंने यह विश्राम
ऐसी सुबह ना आए...

तेरी खोज में ना जेने, कितने युग मेरे बीते
अंत में काम क्रोध मद हारे, हे भोले तुम जीते
मुक्त किया तूने प्रभु मुझको, शत शत है प्रणाम
ऐसी सुबह ना आए...

सर्व कला संम्पन तुम्ही हो. हे मेरे परमेश्वर
दर्शन देकर धन्य करो अब, हे त्रिनेत्र महेश्वर
भाव सागर से तर जाउंगी, लेकर तेरा नाम



aisi subha na aaye aaye na aisi shyam jis din juba pe meri aaye na shiv ka naam



Bhajan Lyrics View All

मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया