Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

कर दो नाम दीवाना जी, अब कर दो नाम दीवाना,
मैं ताकू शब्द निशाना, मैं ताकू शब्द निशाना ।

कर दो नाम दीवाना जी, अब कर दो नाम दीवाना,
मैं ताकू शब्द निशाना, मैं ताकू शब्द निशाना ।

मांगू एक गुरु से दाना,
घट शब्द देयो पहचाना,
घट शब्द देयो पहचाना जी,अब कर दो नाम दीवाना ।

मन साथ सदा परवाना,
कर किरपा करम छड़ना ,
कर किरपा करम छड़ना जी,अब कर दो नाम दीवाना ।

सूरत चढ़े सुने धुन ताना,
मन मारो करो निशाना,
मन मारो करम निशाना जी,अब कर दो नाम दीवाना,

सब छूटे बाण कमाना,
सत-शब्द मिले ढृढ़ ताना,
सत-शब्द मिले ढृढ़ ताना जी,अब कर दो नाम दीवाना,

कोई करे ना मेरी हाना,
मोहे तुम पर बल-बल जाना,
मोहे तुम पर बल-बल जाना जी,अब कर दो नाम दीवाना ।

कल धारा मुझे ना बहाना,
मुझे देना शब्द ठिकाना,
मुझे देना शब्द ठिकाना जी,अब कर दो नाम दीवाना ।

मन हो गया बोहोत निमाणा,
अब राधास्वामी चरण समाना,
अब राधास्वामी चरण समाना जी,अब कर दो नाम दीवाना ।

कर दो नाम दीवाना जी,अब कर दो नाम दीवाना,
मैं ताकू शब्द निशाना,मैं ताकू शब्द निशाना ।



ab kar do naam diwana ji Radhaswami bhajan



Bhajan Lyrics View All

मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।