Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

आयो सखियो मेरा बनवारी
आयो सखियो मेरा बनवारी

आयो सखियो मेरा बनवारी
आयो सखियो मेरा बनवारी

मेरे बनवारी का माथा बड़ा सोहना
मुकुटां दे नाल सजाया सखियो मेरा बनवारी
आयो सखियो मेरा बनवारी

मेरे बनवारी दी आँख बड़ी सोहनी
कजरे दे नाल सजाया सखियो मेरा बनवारी
आयो सखियो  मेरा बनवारी

मेरे बनवारी दे कन बड़े सोहने
कुंडला दे नाल सजाया सखियो मेरा बनवारी
आयो सखियो मेरा बनवारी

मेरे बनवारी दे होंठ बड़े सोहने
बंसरी दे नाल सजाया सखियो मेरा बनवारी
आयो सखियो मेरा बनवारी

मेरे बनवारी का गला बड़ा सोहना
हार दे नाल सजाया सखियो मेरा बनवारी
आयो सखियो मेरा बनवारी

मेरे बनवारी दे हाथ बड़े सोहने
गजरे दे नाल सजाया सखियो मेरा बनवारी
आयो सखियो मेरा बनवारी

मेरे बनवारी दा लक बड़ा सोहना
पितम्बरन दे नाल सजयो सखियो मेरा बनवारी
आयो सखियो  मेरा बनवारी

मेरे बनवारी दे पैर बड़े सोहने
पायल दे नाल सजाया सखियो मेरा बनवारी
आयो सखियो मेरा बनवारी

मेरा बनवारी ते आप बड़ा सोहना
राधा दे नाल सजाया सखियो मेरा बनवारी



aayo sakhio ni mera banwari



Bhajan Lyrics View All

ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥