Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

आप मेरे घर में आये प्रभु,
हर लिए तूने दुःख सारे प्रभु ।

आप मेरे घर में आये प्रभु,
हर लिए तूने दुःख सारे प्रभु ।
तू ही राधा तू ही है श्याम,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

तेरा ही चर्चा तेर ही नाम,
तू ही बनाये सब के बिगड़े काम ।
तू ही है सबका पालन हार,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

मैंने है अब बस तुझको ही माना,
चाहे कुछ भी कहे यह ज़माना ।
तुझको है सारे वेदों का ग्यान,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

तेरे ही दर पे जो भी आया,
सब का बेडा पर कराया ।
तेरी ही लीला है अपरम पार,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

तीन पग में तूने सृष्टि को नपाया,
अर्जुन को सही मार्ग दिखाया
महाभारत में दिया गीता का ज्ञान,।
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

माखन चोर के सब को रुलाया,
मटकी फोड़ सखियो को सताया ।
कंस को मार किया तूने बड़ा काम,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

कालिया नाग के अहंकार को मिटाया,
पर्वत को इक उंगली पर उठाया ।
तूने ही किया रासलीला का काम,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥



aap mere ghar me aaye prabhu har liye tune dukh saare prabhu



Bhajan Lyrics View All

तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा