Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

आप मेरे घर में आये प्रभु,
हर लिए तूने दुःख सारे प्रभु ।

आप मेरे घर में आये प्रभु,
हर लिए तूने दुःख सारे प्रभु ।
तू ही राधा तू ही है श्याम,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

तेरा ही चर्चा तेर ही नाम,
तू ही बनाये सब के बिगड़े काम ।
तू ही है सबका पालन हार,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

मैंने है अब बस तुझको ही माना,
चाहे कुछ भी कहे यह ज़माना ।
तुझको है सारे वेदों का ग्यान,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

तेरे ही दर पे जो भी आया,
सब का बेडा पर कराया ।
तेरी ही लीला है अपरम पार,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

तीन पग में तूने सृष्टि को नपाया,
अर्जुन को सही मार्ग दिखाया
महाभारत में दिया गीता का ज्ञान,।
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

माखन चोर के सब को रुलाया,
मटकी फोड़ सखियो को सताया ।
कंस को मार किया तूने बड़ा काम,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥

कालिया नाग के अहंकार को मिटाया,
पर्वत को इक उंगली पर उठाया ।
तूने ही किया रासलीला का काम,
गुण मैं गाउँ तेरे सुबहो श्याम ॥



aap mere ghar me aaye prabhu har liye tune dukh saare prabhu



Bhajan Lyrics View All

बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है