Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

आज मेरे श्याम की शादी है
श्याम की शादी है, मेरे घनश्याम की शादी है

आज मेरे श्याम की शादी है
श्याम की शादी है, मेरे घनश्याम की शादी है
आज मेरे श्याम की शादी है,,,,,,,,,,,,,,,

बनी है खूब जोड़ी, कृष्ण रुक्मणि की जोड़ी
ख़ुशी से नाचे है मन, मिला सजनी को साजन
हो ओ,,,आज मुझे यह लगता है, ब्रह्माण्ड की शादी है
आज मेरे श्याम की शादी है,,,,,,,,,,,,,,,

रुक्मणी यूँ मुस्कावे, मुझे कान्हा मिल जावे,
मेरी थी यही तमन्ना, पूरी मेरी हुई तमन्ना
हो ओ,,,आज मुझे यह लगता है, ब्रह्माण्ड की शादी है
आज मेरे श्याम की शादी है,,,,,,,,,,,,,,,

बड़ा शुभ लग्न महूर्त, श्याम की सुंदर मूर्त
कैसे संयोग बने हैं, रुक्मणी श्याम मिले हैं
हो ओ,,,लगता है जैसे सारे, ब्रजधाम की शादी है
आज मेरे श्याम की शादी है,,,,,,,,,,,,,,,

मोर का मुकट निराला, गले वैजन्ती माला
चाँद सा रूप है इनका, बड़ा सुंदर नंदलाला
हो ओ,,,जनक नंदनी से जैसे, श्री राम की शादी है



aaj mere shyam ki shadi hai mere ghanshyam ki shadi hai



Bhajan Lyrics View All

राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।