Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

आ जाओ भोले बाबा मेरे मकान में,
तेरा डम डम डमरू बाजे सारे ही जहान में

आ जाओ भोले बाबा मेरे मकान में,
तेरा डम डम डमरू बाजे सारे ही जहान में
सारे ही जहान में, सारे ही जहान में


सुन डमरू की आवाज मेरी मैया वी आ गयी
गोदी मैं गणपति लियाई मेरे मकान में
तेरा डम डम डमरू बाजे सारे ही जहान में  

सुन डमरू की आवाज मेरे श्याम वी आ गए
संग राधा माँ को लियाए मेरे मकान में
तेरा  डम डम डमरू बाजे सारे ही जहान में  

सुन डमरू की आवाज मेरे राम वी आ गए
संग सीता  माँ को लियाए मेरे मकान में
तेरा डम डम डमरू बाजे सारे ही जहान में  

सुन डमरू की आवाज मेरे विष्णु वी आ गए
संग लक्ष्मी माँ को लियाए मेरे मकान में
तेरा डम डम डमरू बाजे सारे ही जहान में  

सुन डमरू की आवाज मेरे ब्रह्मा वी आ गए
संग सरस्वती माँ को लियाए मेरे मकान में
तेरा डम डम डमरू बाजे सारे ही जहान में  

सुन डमरू की आवाज मेरे सद्गुरु वी आ गए
संग सारी सनगत को लियाए मेरे मकान में



aa jao bhole baba mere makan me



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,