Share this page on following platforms.

Home Katha Ram Katha

Ramkatha Prembhushanji Dwarka 2016

Contents of this list:

Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 06
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 04
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 05
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 02
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 03
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 01
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 07
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 08
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 09
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 10
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 11
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 12
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 13
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 14
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 15
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 17
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 19
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 20
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 21
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 22
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 23
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 24
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 25
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 26
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 27
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 28
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 29
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 30
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 31
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 32
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 33
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 34
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 35
Ram Katha By Prembhushan Ji Maharaj from Dwarka, Gujarat 2016 Part 36

Bhajan Lyrics View All

फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे