Share this page on following platforms.

Home Katha Ram Katha

Manas Shraddha by Morari bapu [Ram Kath Full 8 Days] in April, 2011

Manas Shraddha day 1 (Moraribapu katha)

Manas Shraddha day 2 (Moraribapu katha)

Manas Shraddha day 3 (Moraribapu katha)

Manas Shraddha day 4 (Moraribapu katha)

Manas Shraddha day 5 (Moraribapu katha)

Manas Shraddha day 6 (Moraribapu katha)

Manas Shraddha day 7 (Moraribapu katha)

Manas Sraddha day 9 (Moraribapu katha)

Contents of this list:

Bhajan Lyrics View All

राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।