Share this page on following platforms.

Home Katha Ram Katha

Manas Kailash - Morari Bapu Ram Katha (Kailash Mansarovar)

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 1

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 2

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 3

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 4

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 5

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 6

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 7

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 8

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 9

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 10

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 11 of 11

Morari Bapu Virpur Day 1 Chopai Ram Katha No. 705 December 2011

Contents of this list:

Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 1
Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 2
Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 3
Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 4
Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 5
Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 6
Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 7
Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 8
Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 9
Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 10
Manas Kailas Ram Katha By Shri Morari Bapu Part 11 of 11
Morari Bapu Virpur Day 1 Chopai Ram Katha No. 705 December 2011

Bhajan Lyrics View All

श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार