Share this page on following platforms.

Home Katha More Katha

Bhagavat Katha in Hindi by HH Radha Govinda Goswami in Haridwar May 2015

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 1

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami Day 01

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami Day 2

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami Day 2

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami Day 3

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 6

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 5

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 5

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 4

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 3

Contents of this list:

Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 1
Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami Day 01
Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami Day 2
Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami Day 2
Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami Day 3
Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 6
Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 5
Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 5
Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 4
Bhagavat Katha Hindi on Virahini Gopiyo Dvara Krishna Anveshan by HH Radha Govinda Goswami on Day 3

Bhajan Lyrics View All

वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई