Share this page on following platforms.

Home Katha Gopi Geet Katha

Srimad bhagwat katha

Pali, Rajasthan (8 November 2014) | Shrimad Bhagwat Katha | Radhaswarupa Jaya Kishori Ji

Shreemad Bhagwat Katha - Pujya Bhaishri Rameshbhai Oza - Day 1 (Kolkata)

Rameshbhai Oza Bhagwat Katha Part 01

Shrimad Bhagwat Katha Part 1 of 8 - Rameshbhai Oza

LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Ramesh Bhai Ojha - 4 Feb 2016 || Day 5

Pujya Bhaishri Rameshbhai Oza I Shreemad Bhagwat katha I Bhuj - Kutch (Day 4)

Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 1

Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 2

Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 3

Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 4

Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 5, Part 1

Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 5, Part 1

Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 5, Part 2

Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 6

Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 6

Shri Ramesh Bhai oza ji - SunderKand Part 01 Hanuman Jayanti Up. Akhilesh Bilgaiya

GOPI GEET By PP Rameshbhaiji Oza

Contents of this list:

Pali, Rajasthan (8 November 2014) | Shrimad Bhagwat Katha | Radhaswarupa Jaya Kishori Ji
Shreemad Bhagwat Katha - Pujya Bhaishri Rameshbhai Oza - Day 1 (Kolkata)
Rameshbhai Oza Bhagwat Katha Part 01
Shrimad Bhagwat Katha Part 1 of 8 - Rameshbhai Oza
LIVE - Shrimad Bhagwat Katha by Shri Ramesh Bhai Ojha - 4 Feb 2016 || Day 5
Pujya Bhaishri Rameshbhai Oza I Shreemad Bhagwat katha I Bhuj - Kutch (Day 4)
Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 1
Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 2
Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 3
Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 4
Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 5, Part 1
Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 5, Part 1
Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 5, Part 2
Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 6
Shrimad Bhagavat Katha, Devka, Day 6
Shri Ramesh Bhai oza ji - SunderKand Part 01 Hanuman Jayanti Up. Akhilesh Bilgaiya
GOPI GEET By PP Rameshbhaiji Oza

Bhajan Lyrics View All

बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।