Share this page on following platforms.

Home Katha Gopi Geet Katha

Manas gopi geet part 1 day1

Part 1 Day 1 - August 1992 Ram Katha Manas Gopi Geet

Part 1 Day 2 - August 1992 Ram Katha Manas Gopi Geet

Part 1 Day 4 - August 1992 Ram Katha Manas Gopi Geet

Part 1 Day 5 - August 1992 Ram Katha Manas Gopi Geet

Part 1 Day 6 - August 1992 Rām Kathā Mānas Gopī Geet

Contents of this list:

Part 1 Day 1 - August 1992 Ram Katha Manas Gopi Geet
Part 1 Day 2 - August 1992 Ram Katha Manas Gopi Geet
Part 1 Day 4 - August 1992 Ram Katha Manas Gopi Geet
Part 1 Day 5 - August 1992 Ram Katha Manas Gopi Geet
Part 1 Day 6 - August 1992 Rām Kathā Mānas Gopī Geet

Bhajan Lyrics View All

हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,