Share this page on following platforms.

Home Katha Gopi Geet Katha

katha

SHRIMAD BHAGWAT KATHA RAIPUR | BHAISHRI RAMESHBHAI OZA PART 01

Shrimad Bhagwat Katha by Swami Avdheshanand Giriji Maharaj in Orissa Day 1 Part 2

Shree Dongreji Maharaj Bhagwat Katha Part 1

Shree Dongreji Maharaj Bhagwat Katha Part 2

Shree Dongreji Maharaj Bhagwat Katha Part 3

GOPI GEET By PP Rameshbhaiji Oza

SHRIMAD BHAGWAT KATHA RAIPUR | BHAISHRI RAMESHBHAI OZA PART 03

Venu Geet- part 1 by Pujya Rameshbhai Oza

Gopi Geet 1 Rameshbhai Oza

Stuti Gopi Geet Path - Pujya Morari Bapu

Shreemad Bhagwat Katha - Swami Avdeshanand Giriji Maharaj - Day 3 (Haryana)

Lalgovind das ( Bhishma stuti to lord krishna )

Contents of this list:

SHRIMAD BHAGWAT KATHA RAIPUR | BHAISHRI RAMESHBHAI OZA PART 01
Shrimad Bhagwat Katha by Swami Avdheshanand Giriji Maharaj in Orissa Day 1 Part 2
Shree Dongreji Maharaj Bhagwat Katha Part 1
Shree Dongreji Maharaj Bhagwat Katha Part 2
Shree Dongreji Maharaj Bhagwat Katha Part 3
GOPI GEET By PP Rameshbhaiji Oza
SHRIMAD BHAGWAT KATHA RAIPUR | BHAISHRI RAMESHBHAI OZA PART 03
Venu Geet- part 1 by Pujya Rameshbhai Oza
Gopi Geet 1 Rameshbhai Oza
Stuti Gopi Geet Path - Pujya Morari Bapu
Shreemad Bhagwat Katha - Swami Avdeshanand Giriji Maharaj - Day 3 (Haryana)
Lalgovind das ( Bhishma stuti to lord krishna )

Bhajan Lyrics View All

हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा