Share this page on following platforms.

Home Katha Gopi Geet Katha

Gopi Geet Katha By Shri Hita Ambrish ji at Iskcon Mandir, New Delhi in July 2015

Gopi Geet Katha Part 1 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 2 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 3 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 4 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 5 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 6 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 8 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 9 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 10 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 11 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 12 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 13 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 14 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 15 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 16 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 17 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 19 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 20 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 21 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 22 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 23 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 24 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Gopi Geet Katha Part 25 By Shri Hita Ambrish ji in Iskcon Mandir, New Delhi.

Contents of this list:

Bhajan Lyrics View All

एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का