Share this page on following platforms.

Home Katha Gopi Geet Katha

Bhagwat Katha

"Daaro Daaro Ri" By Suresh Wadkar(Pad Written By Jagadguru Kripaluji Maharaj)

Shri Krishna Jaagiye Brij Raj

ye to prem ki baat hai udho

Full Bhagwat Katha - Day 1: Part 2 of 6

Jaya Radha

Shrimad Bhagavat Katha, Kailash Mansarovar, Day 2

Shrimad Bhagavat Katha, Kailash Mansarovar, Day 1

Vrindavan Shrimad Bhagwat Katha By Thakurji Part 10 of 14

Gopi Geet

Parasi Hari ke Charan , Mirabai

Bhagwat Katha - Bhishma Stuti By Ramesh Bhai oza

Contents of this list:

Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
"Daaro Daaro Ri" By Suresh Wadkar(Pad Written By Jagadguru Kripaluji Maharaj)
Shri Krishna Jaagiye Brij Raj
ye to prem ki baat hai udho
GajendraMoksh2 Part2 Houston 2012 Acharya Sri Mridul Krishna goswami
Full Bhagwat Katha - Day 1: Part 2 of 6
Jaya Radha
Ramesh Bhai Oza Bhagwat Katha Trambakeswar(Kumbh 2003)
Shrimad Bhagavat Katha, Kailash Mansarovar, Day 2
Shrimad Bhagavat Katha, Kailash Mansarovar, Day 1
Vrindavan Shrimad Bhagwat Katha By Thakurji Part 10 of 14
Shri Radha Bhajan - Saras Kishori (Must Watch)
Madhurashtakam by Bhagwat Bhaskar Shri Thakurji
Shri Damodar Stotra - Karar vinde na padarvindam by Shri Thakurji
Shri Damodar Stotra - Karar vinde na padarvindam by Shri Thakurji
Gopi Geet
Parasi Hari ke Charan , Mirabai
Bhagwat Katha - Bhishma Stuti By Ramesh Bhai oza
yashoda mayiya tero lalna//rajendra das ji maharaj//krishna badhai

Bhajan Lyrics View All

बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो