Share this page on following platforms.

Home Katha Gopi Geet Katha

03-2016 Bhajans Tulin, West Bangal Katha

Contents of this list:

Aisho Raas Rachyo Raas Bhajan14 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Aisho Raas Rachyo Raas Bhajan14 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Gopi Geet Krishna Virha14 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Harinaam Sankirtan 13 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Mahamantra Sankirtan 14 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Meri Lagi Shyam Sung Preet 14 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Teri Banshi Ki Main Hu 14 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Mahamantra Sankirtan 15 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Hori Khelat Aaj Yugal Jodi 15 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Tum Karuna Ke Saagar 15 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Radhe Radhe Bol 15 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Radha Rani Fal Degi 15 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Mujhe Charno Se Laga Le 15 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Tu Pooja Kar Goverdhan Ki 13 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Chit Chor Mero Maakhan 13 03 2016 By Devi Chitrale
Mere Alwele Ram 12 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Krishna Janm Badhai 12 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Gaiya Maiya Bula Rahi Hai 12 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Shri Ram Stuti 12 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Harinaam Sankirtan 11 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji xvid
Narsingh Stuti 11 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Mukund Madhav Govind 11 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Duniya Ka Ban K Dekh Liya 11 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Bhakto K Liye Apne11 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji
Main Nahi Mera Nahi 11 03 2016 By Devi Chitralekhaji Deviji

Bhajan Lyrics View All

करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया