Share this page on following platforms.

Home Katha Bhaktmal Katha

Bhaktmal Katha (Meera Charitra ) By Hita Ambrish Ji at Gurgaon in Feburary 2015

Meera Charitra Bhaktmaal katha - Part No. 1 Gurgaon - By Sh. Hita Ambrish Ji

Meera Charitra Bhaktmal katha - Part No. 2 Gurgaon - By Sh. Hit Ambrish Ji

Meera Charitra bhaktmal Katha- Part No.3 Gurgon-By Shree Hit Ambrish ji

Meera charitra bhaktmall katha- Part No-4 Gurgaon- By Shree Hit Ambrish ji

meera charitra Bhaktmal Katha -part 5 Gurgaon By Shree Hit Ambrish ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha-partNo.6 Gurgaon By Shree hit ambrish ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha-partNo.7 Gurgaon -by Shree HIt Ambrish jji

meera charitra Bhaktmal katha -part No.8 By Shree Hit Ambrish ji

Meera charitra Bhaktmal Katha Part No.9 Gurgaon By Shree Hit Ambrish Ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No. 10 Gurgaon By Shree Hit Ambrish ji

Meera Charitra Bhaktmal katha Part No.11 Gurgaon by Shree Hit Ambrish ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.13 Gurgaon By Shree Hit Ambrish ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.14 Gurgaon By Shree Hit Ambrish ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.15 Gurgaon By Shree Hit Ambrish Ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.16 Gurgaon By Shree Hita Ambrish Ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No. BY Shree Hit Ambrish JI

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.19 Gurgaon By Shree Hit Ambrish Ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.20 Gurgaon By Shree Hit Ambrish Ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.21 Gurgaon By Shree Hit Ambrish ji

Meera Charitra Bhaktmall Katha Part No.22 Gurgaon By Shree Hit Ambrish Ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.23 Gurgaon By Shree Hit Ambrish Ji

Meera charitra Bhaktmal Katha Part No.24 Gurgaon By Shree Hit Ambrish Ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.25 Gurgaon By Shree Hit Ambrish JI

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.26 Gurgaon By Shree HIt Ambrish Ji

Meera Charitra Bhaktmal Katha Part No.27 Gurgaon By Shree HIt Ambrish Ji

Contents of this list:

Bhajan Lyrics View All

तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना