Share this page on following platforms.

Home Katha Bhagwat Katha

Visva vallabh swami bhagvat Katha 1

Shrimad Bhagvat - 001 Visva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 002 Visva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 003 Vishva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 004 Vishva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 005 Vishva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 006 Vishva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 007 Vishva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 008 Vishva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 009 Vishva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 010 Vishva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 011 Vishva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 012 Vishva vallabha swami.wmv

Shrimad Bhagvat - 013 Vishva vallabha swami.wmv

Contents of this list:

Shrimad Bhagvat - 001 Visva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 002 Visva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 003 Vishva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 004 Vishva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 005 Vishva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 006 Vishva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 007 Vishva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 008 Vishva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 009 Vishva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 010 Vishva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 011 Vishva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 012 Vishva vallabha swami.wmv
Shrimad Bhagvat - 013 Vishva vallabha swami.wmv

Bhajan Lyrics View All

बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही