Share this page on following platforms.

Home Katha Bhagwat Katha

Shrimad Bhagvat Katha (Hindi) - Rameshhbhai Oza

Shrimad Bhagwat Katha Part 1 of 8 - Rameshbhai Oza

Shrimad Bhagwat Katha Part 2 of 8 - Rameshbhai Oza

Shrimad Bhagwat Katha Part 3 of 8 - Rameshbhai Oza

Shrimad Bhagwat Katha Part 4 of 8 - Rameshbhai Oza

Shrimad Bhagwat Katha Part 5 of 8 Rameshbhai Oza

Shrimad Bhagwat Katha Part 6 of 8 - Rameshbhai Oza

Shrimad Bhagwat Katha Part 7 of 8 - Rameshbhai Oza

Shrimad Bhagwat Katha Part 8 of 8 Rameshbhai Oza

Contents of this list:

Shrimad Bhagwat Katha Part 1 of 8 - Rameshbhai Oza
Shrimad Bhagwat Katha Part 2 of 8 - Rameshbhai Oza
Shrimad Bhagwat Katha Part 3 of 8 - Rameshbhai Oza
Shrimad Bhagwat Katha Part 4 of 8 - Rameshbhai Oza
Shrimad Bhagwat Katha Part 5 of 8 Rameshbhai Oza
Shrimad Bhagwat Katha Part 6 of 8 - Rameshbhai Oza
Shrimad Bhagwat Katha Part 7 of 8 - Rameshbhai Oza
Shrimad Bhagwat Katha Part 8 of 8 Rameshbhai Oza

Bhajan Lyrics View All

फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ