Share this page on following platforms.

Home Gurus Sukhbodhananda

Sukh

Hindi - Dainik Bhaskar Utsav - Jaipur 3rd Feb 2012 - Part 5

Power of Will (Bhagavad Gita Vol.41 & 42)

Then Mind...The Movement - GGY Vol. 47 & 48 .MPG

73rd IRC swami sukhabodhananda Speech

Connect Ourselves - Swamiji in conversation with Gouran Dhawan Lal on DD National Network

02 JOKES TO JOY

TERI

Three Realities - (Bhagavad Gita - Vol. 15 & 16)

Swami Sukhbodhananda - 3rd BCS "Session:6 Vibrant Corporate for Vibrant India"

Being Open & Centered - (Bhagavad Gita - Vol. 7 & 8)

Contents of this list:

Hindi - Dainik Bhaskar Utsav - Jaipur 3rd Feb 2012 - Part 5
Power of Will (Bhagavad Gita Vol.41 & 42)
Then Mind...The Movement - GGY Vol. 47 & 48 .MPG
73rd IRC swami sukhabodhananda Speech
Connect Ourselves - Swamiji in conversation with Gouran Dhawan Lal on DD National Network
02 JOKES TO JOY
TERI
Three Realities - (Bhagavad Gita - Vol. 15 & 16)
Swami Sukhbodhananda - 3rd BCS "Session:6 Vibrant Corporate for Vibrant India"
Being Open & Centered - (Bhagavad Gita - Vol. 7 & 8)

Bhajan Lyrics View All

किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka