Share this page on following platforms.

Home Gurus Sukhbodhananda

My treasure

01 GET RID OF STRESS

10 INNER AWAKENING

73rd IRC swami sukhabodhananda Speech

Being Open & Centered - (Bhagavad Gita - Vol. 7 & 8)

04 Discouragement to Encouragement

Search for Self - (Bhagavad Gita - Vol. 49 & 50)

05 WORRY TO WISDOM

02 JOKES TO JOY

04 Discouragement to Encouragement

73rd IRC swami sukhabodhananda Speech

Swamini Vimalananda - Mastering the Mind

EGO - Edging God Out (Bhagavad Gita - Vol. 9 & 10)

EGO - Edging God Out (Bhagavad Gita - Vol. 9 & 10)

Surging Joy - Within (Bhagavad Gita - Vol. 11 & 12)

Integration of Roles - (Bhagavad Gita - Vol. 19 & 20)

Unessential to Essential - (Bhagavad Gita - Vol. 29 & 30)

Om Namaha Shivaya (Peaceful Bhajan)

Contents of this list:

01 GET RID OF STRESS
10 INNER AWAKENING
73rd IRC swami sukhabodhananda Speech
Being Open & Centered - (Bhagavad Gita - Vol. 7 & 8)
04 Discouragement to Encouragement
Search for Self - (Bhagavad Gita - Vol. 49 & 50)
05 WORRY TO WISDOM
02 JOKES TO JOY
04 Discouragement to Encouragement
73rd IRC swami sukhabodhananda Speech
Swamini Vimalananda - Mastering the Mind
EGO - Edging God Out (Bhagavad Gita - Vol. 9 & 10)
EGO - Edging God Out (Bhagavad Gita - Vol. 9 & 10)
Surging Joy - Within (Bhagavad Gita - Vol. 11 & 12)
Integration of Roles - (Bhagavad Gita - Vol. 19 & 20)
Unessential to Essential - (Bhagavad Gita - Vol. 29 & 30)
Om Namaha Shivaya (Peaceful Bhajan)

Bhajan Lyrics View All

हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की