Share this page on following platforms.

Home Gurus Sukhbodhananda

Excelent speeches

Inner Awakening

Sadhu Stories by Swamiji - Two Men and a Prostitute

What is the soul of all definitions?

Sri Sri Ravi Shankar on CNN 's Quest for Spirituality

Swami Vivekananda Speech at Chicago - Welcome Address

OSHO: God Is Not a Solution - but a Problem

The Power of One - Part 3

OSHO: Meditations for Contemporary People

Inner Awakening - 21 Days Enlightenment Intensive in India

Inner Awakening Program Details

Swami Sukhabodhananda

The Power of One - Part 1

Experience the Cosmic Space - Technique & Meditation

"How do I recognize my Guru?" - Sadhguru

Power and Repose: Swami Vivekananda

Personal Excellence through Bhagavad Gita

Swami Vivekananda visits Southern California 1899

Inner Awakening Program - Dec 1-21, 2008

Contents of this list:

Inner Awakening
Sadhu Stories by Swamiji - Two Men and a Prostitute
What is the soul of all definitions?
Sri Sri Ravi Shankar on CNN 's Quest for Spirituality
Swami Vivekananda Speech at Chicago - Welcome Address
OSHO: God Is Not a Solution - but a Problem
The Power of One - Part 3
OSHO: Meditations for Contemporary People
Inner Awakening - 21 Days Enlightenment Intensive in India
Inner Awakening Program Details
Swami Sukhabodhananda
The Power of One - Part 1
Experience the Cosmic Space - Technique & Meditation
"How do I recognize my Guru?" - Sadhguru
Power and Repose: Swami Vivekananda
Personal Excellence through Bhagavad Gita
Swami Vivekananda visits Southern California 1899
Inner Awakening Program - Dec 1-21, 2008

Bhajan Lyrics View All

ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल