Share this page on following platforms.

Home Gurus Shri Shri Ravishankar ji

Sri Sri Ravi Shankar

Hari Sundara Nanda Mukunda, Hari Narayan Hari Om - An Art of Living Song

Satsang by Sri Sri Ravi Shankar Ji at German Embassy, Delhi

Shivkumar Sharma and Shri Shri Ravi Shankar at sitar concert

Sri Sri Ravi Shankar has a large number of followers

Sri Sri Ravi Shankar teaches us The Art of Living

Sri Sri Ravi Shankar Ji at German Residence garden

Jam-packed Hall, Sirifort Auditorium - Followers of Sri Sri Ravi Shanker

Meditation session by Shri Shri Ravi Shankar during Brahm Naad

Ambassador of Peace - Sri Sri Ravi Shankar Ji at German Residence garden, Delhi

Sri Sri Ravi Shankar delivering a sermon

Sri Sri Ravi Shankar - a spiritual teacher

Sri Sri Ravi Shankar

Sri Sri Ravi Shankar - a humanitarian leader

Sri Sri Ravi Shankar's rocksatsang

A delightful day with Sri Sri Ravi Shankar

Sri Sri Ravi Shankar - an ambassador of peace

Sri Sri Ravishankar : solution for India's problems?

Sri Sri Ravishankar : saint of the people?

Is Sri Sri Ravishankar a learned god-man or a man of god?

Enigmatic figure Sri Sri Ravishankar

Art of Living hosts 'Brahm Naad' in Delhi

Sri Sri Ravishankar unites his brood through music

Release of the first copy of 'Nirvan' by Shri Shri Ravishankar

Shri Shri Ravishankar releases 'Smriti Patrika' during Brahm Naad

Contents of this list:

Hari Sundara Nanda Mukunda, Hari Narayan Hari Om - An Art of Living Song
Satsang by Sri Sri Ravi Shankar Ji at German Embassy, Delhi
Shivkumar Sharma and Shri Shri Ravi Shankar at sitar concert
Sri Sri Ravi Shankar has a large number of followers
Sri Sri Ravi Shankar teaches us The Art of Living
Sri Sri Ravi Shankar Ji at German Residence garden
Jam-packed Hall, Sirifort Auditorium - Followers of Sri Sri Ravi Shanker
Meditation session by Shri Shri Ravi Shankar during Brahm Naad
Ambassador of Peace - Sri Sri Ravi Shankar Ji at German Residence garden, Delhi
Sri Sri Ravi Shankar delivering a sermon
Sri Sri Ravi Shankar - a spiritual teacher
Sri Sri Ravi Shankar
Sri Sri Ravi Shankar - a humanitarian leader
Sri Sri Ravi Shankar's rocksatsang
A delightful day with Sri Sri Ravi Shankar
Sri Sri Ravi Shankar - an ambassador of peace
Sri Sri Ravishankar : solution for India's problems?
Sri Sri Ravishankar : saint of the people?
Is Sri Sri Ravishankar a learned god-man or a man of god?
Enigmatic figure Sri Sri Ravishankar
Art of Living hosts 'Brahm Naad' in Delhi
Sri Sri Ravishankar unites his brood through music
Release of the first copy of 'Nirvan' by Shri Shri Ravishankar
Shri Shri Ravishankar releases 'Smriti Patrika' during Brahm Naad

Bhajan Lyrics View All

आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना