Share this page on following platforms.

Home Gurus Shri Shri Ravishankar ji

My fav. Vedios by shri shri ravi shankar ji

How to Deal with Insult and Criticism - Short talk by Sri Sri Ravi Shankar

Dealing with Mistakes - Talk by Sri Sri Ravi Shankar

Secrets of a Happy Marriage by Sri Sri Ravi Shankar

OSHO: Being In

Ego - Sri Sri Ravi Shankar

What is Desire? Extract of a talk by Sri Sri Ravi Shankar

How do you know if a relationship is good or not? Extract of talk given by Sri Sri Ravi Shankar

Every Day Tips - Words of Wisdom by Sri Sri

Every Day Tips - Words of Wisdom by Sri Sri

Ego - Sri Sri Ravi Shankar

Meditation Techniques in Hindi

How to deal with confusion? - Answers Sri Sri Ravi Shankar

Contents of this list:

How to Deal with Insult and Criticism - Short talk by Sri Sri Ravi Shankar
Dealing with Mistakes - Talk by Sri Sri Ravi Shankar
Secrets of a Happy Marriage by Sri Sri Ravi Shankar
OSHO: Being In
Ego - Sri Sri Ravi Shankar
What is Desire? Extract of a talk by Sri Sri Ravi Shankar
How do you know if a relationship is good or not? Extract of talk given by Sri Sri Ravi Shankar
Every Day Tips - Words of Wisdom by Sri Sri
Every Day Tips - Words of Wisdom by Sri Sri
Ego - Sri Sri Ravi Shankar
Meditation Techniques in Hindi
How to deal with confusion? - Answers Sri Sri Ravi Shankar

Bhajan Lyrics View All

यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ