Share this page on following platforms.

Home Gurus Shri Shri Ravishankar ji

Hindi Talks : Sri Sri Ravi Shankar

What are qualities needed in a married person? - Sri Sri Ravi Shankar's Talk in Hindi (HD Quality)

Ardhangini ki Aavashyakta - Sri Sri Ravi Shankar a talk in Hindi

What to do Seva or Job? A Talk in Hindi by Sri Sri Ravi Shankar (HD Quality)

Questions and Answers in Satsang with Sri Sri Ravi Shankar (HD Quality)

Questions and answers with Sri Sri Ravi Shankar in Hindi (HD Quality)

A Talk in Hindi by Sri Sri Ravi Shankar in a Mahasatsang in Haryana March 17th 2011

Question on Thirupati Balaji answered by Sri Sri in Hindi

Contents of this list:

What are qualities needed in a married person? - Sri Sri Ravi Shankar's Talk in Hindi (HD Quality)
Ardhangini ki Aavashyakta - Sri Sri Ravi Shankar a talk in Hindi
What to do Seva or Job? A Talk in Hindi by Sri Sri Ravi Shankar (HD Quality)
Questions and Answers in Satsang with Sri Sri Ravi Shankar (HD Quality)
Questions and answers with Sri Sri Ravi Shankar in Hindi (HD Quality)
A Talk in Hindi by Sri Sri Ravi Shankar in a Mahasatsang in Haryana March 17th 2011
Question on Thirupati Balaji answered by Sri Sri in Hindi

Bhajan Lyrics View All

ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना