Share this page on following platforms.

Home Gurus Shravananandji

Yog Vashistha

YOG VASHISHT-Part-1 to 20 Complete BY DR. RP DHAWAN

Yoga Vasistha by Rishi Nityapragya: Part-1 (Hindi)

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-1

Living with Joy Everyday- Part 3

YOG VASHISHT-Part-1 to 20 Complete BY DR. RP DHAWAN

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-1

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-1

Contents of this list:

YOG VASHISHT-Part-1 to 20 Complete BY DR. RP DHAWAN
Yoga Vasistha by Rishi Nityapragya: Part-1 (Hindi)
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-1
Living with Joy Everyday- Part 3
YOG VASHISHT-Part-1 to 20 Complete BY DR. RP DHAWAN
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-1
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-1

Bhajan Lyrics View All

कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,