Share this page on following platforms.

Home Gurus Shravananandji

Rishikesh

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-1

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-68

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-87

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-5

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-8

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-10

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-89

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-84

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-29

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-81

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-6

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-82

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-2

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-14

Contents of this list:

Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-1
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-68
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-87
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-5
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-8
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-10
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-89
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-84
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-29
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-81
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-6
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-82
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-2
Yog Vashisht by Swami Shravananandji Part-14

Bhajan Lyrics View All

राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे