Share this page on following platforms.

Home Gurus Morari Bapu

IILM Speech by Shri Morari Bapu

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

Contents of this list:

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

Bhajan Lyrics View All

मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥