Share this page on following platforms.

Home Gurus Morari Bapu

IILM Speech by Shri Morari Bapu

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

Contents of this list:

IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007
IILM Founders' Day Lecture by Shri Murari Bapu Ji, held on October 22, 2007

Bhajan Lyrics View All

एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,