Share this page on following platforms.

Home Gurus Hita Ambrish ji

Rasotsava Bhajan Sandhaya By Shri Hita Ambrish Ji at Delhi on 8-Feb-2015

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 1 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 2 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 3 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 4 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 5 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 6 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 7 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 8 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 9 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 10 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 11 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Rasotsava Bhajan Sandhaya Part 12 By Shri Hita Ambrish Ji in Delhi ON 8-Feb-2015.

Contents of this list:

Bhajan Lyrics View All

सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा