Share this page on following platforms.

Home Gurus Chinmayanand Bapu

Popular Videos - Swami Chinmayanand & Gujarat

Chinmayanand Bapu Ji Live at Nadiad, Gujarat - Gopi Geet

Pujya Shri Chinmayanand Bapu Ji (Day 5) Bhagwat katha Nadiad Gujarat

Gopi Geet Live - Chinmayanand Bapu Ji - Nadiad, Gujarat - part 2

Pujya Shri Chinmayanand Bapu Ji (Day 3) Bhagwat katha Nadiad Gujarat

Pujya Shri Chinmayanand Bapu Ji (Day 7) Bhagwat katha Nadiad Gujarat

Pujya Shri Chinmayanand Bapu Ji (Day 2) Bhagwat katha Nadiad Gujarat

Gopi Geet Live - Chinmayanand Bapu Ji - Nadiad, Gujarat - part 4

Contents of this list:

Chinmayanand Bapu Ji Live at Nadiad, Gujarat - Gopi Geet
Pujya Shri Chinmayanand Bapu Ji (Day 5) Bhagwat katha Nadiad Gujarat
Gopi Geet Live - Chinmayanand Bapu Ji - Nadiad, Gujarat - part 2
Pujya Shri Chinmayanand Bapu Ji (Day 3) Bhagwat katha Nadiad Gujarat
Pujya Shri Chinmayanand Bapu Ji (Day 7) Bhagwat katha Nadiad Gujarat
Pujya Shri Chinmayanand Bapu Ji (Day 2) Bhagwat katha Nadiad Gujarat
Gopi Geet Live - Chinmayanand Bapu Ji - Nadiad, Gujarat - part 4

Bhajan Lyrics View All

तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम