Share this page on following platforms.

Home Gurus Swami Mukundanand

Swami Mukundananda

Shreeji Temple, Sewa Kunj & Jaipuriya Mandir Barsana [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Shreeji Temple, Sewa Kunj & Jaipuriya Mandir Barsana [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Meditation at Maan Mandir, Gehebar Kund & Saankari Khor [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Bhagavad Gita 10/17, Chapter 7 - Swami Mukundananda

Taittiriya Upanishad by Swami Mukundananda [Hindi]-Part 11/

Madan Mohan Temple, Chaitanya Mahapravu & Six Goswamis [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Jeev Ka Lakshya (Aim of the Soul)-Lecture Shree Kripaluji Maharaj with ENGLISH Subtitles

What is the difference between being religious and spiritual? [Q&A with Swami Mukundananda]

What can I give and take from the world? [Q&A with Swami Mukundananda]

Contents of this list:

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 6
Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 19
Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 22
Shreeji Temple, Sewa Kunj & Jaipuriya Mandir Barsana [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Shreeji Temple, Sewa Kunj & Jaipuriya Mandir Barsana [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Meditation at Maan Mandir, Gehebar Kund & Saankari Khor [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Bhagavad Gita 10/17, Chapter 7 - Swami Mukundananda
Taittiriya Upanishad by Swami Mukundananda [Hindi]-Part 11/
Madan Mohan Temple, Chaitanya Mahapravu & Six Goswamis [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Jeev Ka Lakshya (Aim of the Soul)-Lecture Shree Kripaluji Maharaj with ENGLISH Subtitles
What is the difference between being religious and spiritual? [Q&A with Swami Mukundananda]
What can I give and take from the world? [Q&A with Swami Mukundananda]

Bhajan Lyrics View All

किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो