Share this page on following platforms.

Home Gurus Swami Mukundanand

Srimad Bhagavatam Mahapuran [Bhagwat Katha] in English by Swami Mukundananda

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] - Part 1 by Swami Mukundananda

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] - Part 2 by Swami Mukundananda-How to get wisdom and detachment

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] - Part 3 by Swami Mukundananda- The Path of Righteousness

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 4 - Swami Mukundananda - 24 Avatars of God

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 5 by Swami Mukundananda - Story of Narada

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 6 - Swami Mukundananda - Birth of Parikshit

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 7 - Swami Mukundananda - Why did Kunti ask for hardship?

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 8 - Swami Mukundananda - Bhishma's Lecture on Dharma

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 9 - Swami Mukundananda - Where does Kaliyuga reside?

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 10 - Swami Mukundananda - Means of welfare for a dying man

Contents of this list:

Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] - Part 1 by Swami Mukundananda
Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] - Part 2 by Swami Mukundananda-How to get wisdom and detachment
Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] - Part 3 by Swami Mukundananda- The Path of Righteousness
Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 4 - Swami Mukundananda - 24 Avatars of God
Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 5 by Swami Mukundananda - Story of Narada
Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 6 - Swami Mukundananda - Birth of Parikshit
Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 7 - Swami Mukundananda - Why did Kunti ask for hardship?
Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 8 - Swami Mukundananda - Bhishma's Lecture on Dharma
Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 9 - Swami Mukundananda - Where does Kaliyuga reside?
Srimad Bhagavatam [Bhagwat Katha] Part 10 - Swami Mukundananda - Means of welfare for a dying man

Bhajan Lyrics View All

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,