Share this page on following platforms.

Home Gurus Swami Mukundanand

Question and Answer with Swami Mukundananda

Will ethics and values see me through life? [Q&A with Swami Mukundananda]

Why does not God correct the bad around the world? [Q/A with Swami Mukundananda]

Why bad things happen to good people? [HANGOUT with Swami Mukundananda]

How can we help in making this world a better place? [Q/A with Swami Mukundananda]

What is the difference between being religious and spiritual? [Q&A with Swami Mukundananda]

What can I give and take from the world? [Q&A with Swami Mukundananda]

I am a good person. Do I need to worship God? [Q&A with Swami Mukundananda]

We have earned well, children are also settled. What next? [Q&A with Swami Mukundananda]

Old habits are affecting my service to God. How do I change them? [Q&A with Swami Mukundananda]

How do we serve God? [Q&A with Swami Mukundananda]

I started my devotion late in my life. How shall I motivate myself? [Q&A with Swami Mukundananda]

How to manage worldly responsibility, while engaging in devotion? [Q&A with Swami Mukundananda]

Contents of this list:

Will ethics and values see me through life? [Q&A with Swami Mukundananda]
Why does not God correct the bad around the world? [Q/A with Swami Mukundananda]
Why bad things happen to good people? [HANGOUT with Swami Mukundananda]
How can we help in making this world a better place? [Q/A with Swami Mukundananda]
What is the difference between being religious and spiritual? [Q&A with Swami Mukundananda]
What can I give and take from the world? [Q&A with Swami Mukundananda]
I am a good person. Do I need to worship God? [Q&A with Swami Mukundananda]
We have earned well, children are also settled. What next? [Q&A with Swami Mukundananda]
Old habits are affecting my service to God. How do I change them? [Q&A with Swami Mukundananda]
How do we serve God? [Q&A with Swami Mukundananda]
I started my devotion late in my life. How shall I motivate myself? [Q&A with Swami Mukundananda]
How to manage worldly responsibility, while engaging in devotion? [Q&A with Swami Mukundananda]

Bhajan Lyrics View All

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा