Share this page on following platforms.

Home Gurus Swami Mukundanand

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda [COMPLETE]

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 1

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 2

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 3

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 4

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 5

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 6

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 7

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 8

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 9

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 10

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 11

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 12

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 13

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 14

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda - Part 15

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 16

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda - Part 17

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 19

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 20

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 21

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 22

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 23

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 24

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 25

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 26

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 27

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 28

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 29

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 30

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 31

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 32

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 33

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 34

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda-Part 35

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 36

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 37

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 38

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 39

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 40

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 41

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 42

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 43

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 44

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 45

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 46

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 47

Narad Bhakti Darshan by Swami Mukundananda- Part 48 [FINAL]

Contents of this list:

Bhajan Lyrics View All

लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से