Share this page on following platforms.

Home Gurus Swami Mukundanand

Brajdham Yatra with Swami Mukundananda

Nidhi Van & Samadhi of Swami Haridas [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Kesi Ghat & Yamuna River [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Madan Mohan Temple, Chaitanya Mahapravu & Six Goswamis [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Prem Mandir and Kaliya Ghat [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Sankirtan at Kusum Sarovar [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Meditation at Maan Mandir, Gehebar Kund & Saankari Khor [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Shreeji Temple, Sewa Kunj & Jaipuriya Mandir Barsana [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]

Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda [COMING SOON]

Contents of this list:

Nidhi Van & Samadhi of Swami Haridas [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Kesi Ghat & Yamuna River [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Madan Mohan Temple, Chaitanya Mahapravu & Six Goswamis [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Prem Mandir and Kaliya Ghat [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Sankirtan at Kusum Sarovar [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Meditation at Maan Mandir, Gehebar Kund & Saankari Khor [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Shreeji Temple, Sewa Kunj & Jaipuriya Mandir Barsana [Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda]
Braj Dham Yatra with Swami Mukundananda [COMING SOON]

Bhajan Lyrics View All

तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा