Share this page on following platforms.

Home Gurus Sri Thakurji

Bhagwat Katha By Shri Thakur Ji

Shri Bhagwat Kripa Production

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 1 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 2 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 3 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 4 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 5 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 6 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 7 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 8 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 9 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 11 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 12 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 13 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 14 of 15

HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 15 of 15

Contents of this list:

Shri Bhagwat Kripa Production
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 1 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 2 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 3 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 4 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 5 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 6 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 7 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 8 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 9 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 11 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 12 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 13 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 14 of 15
HariGarh Bhagwat Katha By Sri Thakurji Part 15 of 15

Bhajan Lyrics View All

मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,