Share this page on following platforms.

Home Gurus Rameshbhaiji Oza ji

Rameshbhai Oza Shivmala

Shiva Mahimna Stotra 1 of 3

Shiva Mahimna Stotra Part 2of3 Reloaded

Shiva Mahimna Stotra 3 of 3

Shiv Panchakshar Stotra

Bilwastakam

Shiv Manas Puja

Shiva Lingastakam

Shiva Tandava Strotram

Shivastakam

Shiva Nataraj Stuti

Shiva Rudrastakam

Vedasaara Shiva Stotram

Contents of this list:

Shiva Mahimna Stotra 1 of 3
Shiva Mahimna Stotra Part 2of3 Reloaded
Shiva Mahimna Stotra 3 of 3
Shiv Panchakshar Stotra
Bilwastakam
Shiv Manas Puja
Shiva Lingastakam
Shiva Tandava Strotram
Shivastakam
Shiva Nataraj Stuti
Shiva Rudrastakam
Vedasaara Shiva Stotram

Bhajan Lyrics View All

वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ